Saturday, June 12, 2010

आज इच्छाएं मेरी उड़ रही है तितली बनकर








आज इच्छाएं मेरी
उड़ रही है
जैसे उडती तितलियाँ हो,
वो ठहरती ही नहीं
किसी पल
किसी एक फूल  पर
और ये मेरा नादाँ मन
कर रहा है कोशिश पकड़ने की
उन तितली बनी इच्छाओं को
एक अबोध बालक की तरह
और फिर चाहता की कैद कर ले उन्हें
जिससे वो न उड़ सके दुबारा,
पर हर बार की तरह ही
इस बार भी
हो रहा है मन असफल मेरा
न तो वह बच्चा ही पकड़ पा रहा है तितलियों को
और न ही ये मेरा मन मेरी उन  इच्छाओं को
जो खुद भी नाच रही है
और नचा रही है मुझे
कब से..?
जब से आंख खोली है तबसे...!!


14 comments:

  1. ये इच्छायें अनंत होती हैं और हाथ कब आती हैं…………बहुत सुन्दर्…………।कल के चर्चा मंच पर आपकी पोस्ट होगी।

    ReplyDelete
  2. ये इच्छाएं तो होती ही है...परिंदों की तरह...उडती रहती है इधर उधर...कौन रोक पाया है इन्हें...

    ReplyDelete
  3. शानदार पोस्ट है...

    ReplyDelete
  4. मासूम तितलियां हैं ..लम्बे सफर में हैं..इन्हें अभी बहुतसे उपवनों की सैर करनी है..
    दुआ है सफर अच्छा कटे..

    ReplyDelete
  5. सुंदर भाव लिए कविता |बहुत बहुत बधाई |
    आशा

    ReplyDelete
  6. आ तुझे दुनिया की सैर कराऊँ,
    थाम के मेरा हाथ चल।
    ज़मीं पर तो बहोत चल चुकी हो,
    आज आसमाँ पे मेरे साथ चल।

    ReplyDelete
  7. नमस्ते,

    आपका बलोग पढकर अच्चा लगा । आपके चिट्ठों को इंडलि में शामिल करने से अन्य कयी चिट्ठाकारों के सम्पर्क में आने की सम्भावना ज़्यादा हैं । एक बार इंडलि देखने से आपको भी यकीन हो जायेगा ।

    ReplyDelete
  8. maanna padega janaab aapko..............kashish hai apki kavitaon mein,,,,,,,,,

    ReplyDelete

आपके आशीर्वचन हमारे लिए... विश्वाश मानिए हमे बहुत ताक़त मिलती आपकी टिप्पणियो से...!!