Tuesday, June 29, 2010

कुछ हाइकु कविताये

(१) पानी बरसा
महक उठी मिटटी
हरी हुयी धरा |

(२) शौर्य  पर्याय
पूछ लिया बच्चे से
बोला भारत|

(३) कल फिर से
मर गया है भूखा
कहाँ है दानी?

(४) सूर्य निकला
फिर कमल खिले
धरा बौरायी|

(५) हुआ अँधेरा
धरा पे छाये व्योम
यादों पे जुल्फें |

(६) नेता आये
तोरण द्वार बंधे
बरसे वादे|

(७) बसंत आया
गुलशन महके
पंक्षी  चहके|

(८) तन बिसरा
मन भी भूल गया
तू जब आया |

(९) रिक्शे वाले को
गाली दी सवारी ने
गुस्सा  आया|

(१०) बोलो बोलो तो
अरे कुछ बोलो तो
बोला जाने दो |

7 comments:

  1. दो,तीन.छ: अच्छी लगी .....!!

    ReplyDelete
  2. पसंद करने के लिए आप सभी का आभार..!!

    ReplyDelete
  3. shaury paryay
    pooch liya bachhe se
    bola bharat.
    ....sabse achhi lagi yah vaali ..suchmuch hayi hai. hayi koo.

    ReplyDelete

आपके आशीर्वचन हमारे लिए... विश्वाश मानिए हमे बहुत ताक़त मिलती आपकी टिप्पणियो से...!!